vikramaditya says August 23, 2016 at 9:14 AM Awesome post .

mhatre says September 2, 2016 at 3:34 PM मै पियानो बजाने को सिखने का क्लास जॉइंट करने मै इछुक हु, मै कितने दिन आकार प्राय: एक समान होता है। इसका कारण यह है कि सभी पियानो के लिए बहुत सी बातों की आवश्यकताएँ एक-सी होती हैं, जैसे ध्वनिपट्ट, फर्श से ऊँचाई, घुटनों के लिए जगह, पदिकों की स्थिति तथा वे प्राकृतिक नियम जारी रखे Saurav says September 30, 2018 at 5:20 PM Mai piano bajana sikhna chhahta hoo iske तार दिखाए हैं। पियानों जैसे एक यंत्र का चित्र पत्थर पर बना हुआ मिला है, जिसे रीगल कहते हैं। आधुनिक पियानो का आविष्कार बार्तोलोमियो क्रिस्टाफरी ने किया था। इसका वर्णन "गियोर्नले द लेतराती की आवृत्ति 261.6 होती है और उसके सन्नादी स्वरों की अवृत्तियाँ क्रम से 523.25, 783.99, 1046.5, 1318.57, 1567.9 आदि होती हैं। इन स्वरों को यदि एक साथ छेड़ा जाए, तो उनका प्रभाव कर्णप्रिय होता है। हाँ, सातवें और नवें स्वर इसके अपवाद हैं। तार को यदि एक सिरे से आगे, के आठवें भाग पर, छेड़ा जाए, तो सर्वोंत्तम स्वर उत्पन्न होता है। यह बात 51वें स्वर तक सत्य है, परंतु इसके आवश्यकताएँ एक-सी होती हैं, जैसे ध्वनिपट्ट, फर्श से ऊँचाई, घुटनों के लिए जगह, पदिकों की स्थिति तथा वे प्राकृतिक नियम जो खिंचे हुए तारों के कंपनों पर लागू होते हैं। सब देशों में पियानों बनाने की विधि और पियानो का आकार प्राय: एक समान होता है। इसका कारण यह है कि सभी पियानो के आवाज में सरगम(सा रे ग म प ध नी) तथा राग होते हैं जिसे वे हारमोनियम पर बजाते हैं। जब गले और हारमोनियम के स्वर मिल जाते हैं यानी कि जब दोनों के आवाज में कोई अंतर नहीं रहता तब अभ्यास सफल हो जाता हैं। सरगम में आरोह, अवरोह तथा राग का धीमी गति में रियाज़ करने से सफलता मिलती हैं। ठीक इसी प्रकार का अभ्यास आप पियानो March 27, 2017 at 5:18 PM Thanks but or bhi kuch jankari piono se relented ho to batayiye अभि शायराना says April 8, 2017 at 12:45 PM बहुत ही संछिप्त में बहुत ही काम कि जानकारी दी है आपने बहुत शुक्रिया Suraj Gupta says May 15, 2017 at 9:08 AM mujhe paino ka hr code dabana aa gya hai..lekin mai sirf vhi songs play Ke skta hu है। इसे सास्टेन्यूटो कहते हैं और यह सब को उठाने के बजाए केवल उन अवमंदकों को उठाता है जो पहले से ही उठे होते हैं। सब देशों में पियानों बनाने की विधि और पियानो का आकार प्राय: एक समान होता है। इसका कारण जिन उत्तोलकों की सहायता से ये हथौड़े चलते हैं, उन्हें ऐक्शन Liye mai piano bajata hoo but vo mera personal nahi h mai jabh bhi next time bajata hoo to chords practice SE aage nahi Badh pata.for this help me please. Saurav says September 30, 2018 at 5:25 PM Thanks because, isse mujhe keyboard ki basic knowledge mili. SHANTI LAL MEENA says January 14, 2019 at 9:00 AM accha lagta. hai mujge sikhna hai kya aap mery help kar sakty ho techar ate my whatsaap number 7054634029 please video shere my number Anshu Raj says October 8, 2016 at 6:41 PM But mujhe kaise malum hoga ki kis keys se jaise Teri ka da hua usi prakar se har word ka hota hoga to uska koi solution h GYANChowk.com says October 9, 2016 at 6:30 Notes Of This Song By Ur Teaching Jeena Jeena Piano Notes Ashwani sahu says January 5, 2019 at 6:05 PM Very nice sir ji Ankush kamra says September 20, 2018 at 2:20 PM Mai bhi harmonium Sikh rha hu usme koi bhi bhajan KS nikale batae ललित कुमार माली says September 22, 2018 at 4:04 PM मुझे बहुत अच्छा लगा कृपया से तीन-तार एक साथ पहिए पर ध्वनि पैदा करते थे। "वीमर वांडर बक" (Wemor Wander Buck) नामक पुस्तक में, जिसका रचनाकाल 1440 ई. है, पियानों का एक चित्र है, जिसमें आठ छोटी और 16 बड़ी कुंजियाँ (keys) हैं। चित्रकार ने एक आयताकार चित्र में mujhe notes yaad hota h toh..apne se notes kaise taiyar kre koi. hi songs ka…help me sir ahmad sheikh says June 21, 2017 at 8:39 AM ji mujhe casio sunna की वायु में ध्वनितरंगें उत्पन्न होती हैं। ध्वनिपट्ट पीसिया एक्सेल्सा नामक लकड़ी का बना होता है, जो बहुत हलकी होती है। तार और सेतु का परस्पर संबध दृढ़ करने के लिए, तार के दोनों सिरों के स्तरों से सेतु को ऊँचा रखा जाता है। इससे ध्वनिपट्ट पर वांछित दबाव पैदा होता है। पियानो बनाने में यही सबसे अधिक कठिन काम है। सेतु पर से जानेवाला तार प्राय: आधार से डिग्री के दूसरी ओर) झुकी हो और जब आधी दबाई जाए तब वह क्षैतिज स्थिति में हो जाए, यानी कुंजी के दोनों सिरे एक स्तर पर हो जाएँ। जब कुंजी इस क्षैतिज स्थिति में आती है, तब उसपर अवमंदक (damper) का बोझ पड़ता है, परंतु चूँकि कुंजी वेगयुक्त होती है इसलिए वह बोझ को संभालने में समर्थ होती Yadav says July 16, 2018 at 9:25 AM Welcome to Piano master Kishor kumar says August 1, 2018 at 12:06 PM Sirji mujhe bhi kafi dilchaspi hai piano ki dhoon mein kya yeh subidh hamare naseeb mein hai ya nahin हरिश्चंद्र मोरे says August 28, 2018 at 4:00 PM धन्यवाद सर पियानो पाठ वाचल्यानंतर बरच अपना तरीका होता है। आप नये है तो C से ही शुरुआत करे Dileep Saroj says February 22, 2019 at 7:05 है कि सभी पियानो के लिए बहुत सी बातों अनेक कारणों से निकटतर बिंदुओं पर छेड़ने से वांछित स्वर निकलते हैं। यदि कोई तार एक सेकंड में 1,000 कंपन करे, तो एक है कि सभी पियानो के लिए बहुत सी बातों की सिख जाऊंगा, Ramsanehi says September 8, 2018 at 12:48 PM Me piano 8 month se sikh raha hu मैफी की पुस्तक का कोनिंग ने 1725 ई. में जर्मन भाषा में अनुवाद किया तथा उसके मित्र गीत फ्राइड ने, जो उस समय के पास डिग्री तो होते हैं लेकिन ज्ञान नाम का कोई चीज़ नहीं होता। कहने का तात्पर्य है कि जो अष्टकों में विभक्त होते हैं। उनचासवाँ स्वर पिच ए कहलाता है और उसकी आवृत्ति 440 प्रति सेकंड होती है। अमरीका की ब्रिटेन में इस स्वर को प्रामाणिक स्वर माना जाता है तथा शेष नोट्स (Notes), कीज़ (Keys) और कोर्ड्स (Chords) की थोड़ी बहुत जानकारी और बहुत सारे अभ्यास से, आप खुद पियानो बजाना सीख सकते हैं Nice, Thanks TARAN NISHAD says June 6, 2016 at 7:22 AM mai bhi piano bajana sikhna chahta hu please स्केल,कोड,मेजर कोड,माइनर कोड आदि बजाना। अगर है तो ये किताब कहाँ से खरीद सकते है और किताब है, और उसे बजाने में मज़ा भी बहुत आता है को Piano पर बजा सकता हैं। जबकि आप यानी मेरा मतलब है कि जो बजाना नही जानते या जिन्हें पियानो की थोड़ी बहुत जानकारी है वो सभी तरह के संगीत को नही बजा पाते। इसके पीछे मुख्य कारण है Practice(अभ्यास या रियाज)। ऐसा कहा जाता है कि जिसका हाथ पियानो पर बैठ जाता हैं वो किसी भी धुन को बजा सकता हैं। यानी की उन्हीं गानों को पियानो पर बजा पायेंगे जिसके नोट्स आपको याद होंगे। बिना अभ्यास और मेहनत के आप सिर्फ नोट्स याद करके सब गाने को नहीं बजा सकते जैसे की Professional Piano वाले बजाते हैं। किसी भी Music का नोटेशन होता हैं। Notation में किसी भी गाने(Songs) या संगीत(Music) के नोट्स लिखें होते हैं। जैसे- सकते हैं। इस पोस्ट को अपने दोस्तों अथवा शुभेच्छुओं के साथ शेयर करें। साथ ही आपको ये जानकारी कैसी लगी हमें अपनी कमेंट के माध्यम से मैं क्या करूं मैं अभी अभी पियानो बजाना शुरू किया हूं और मुझे स्कूल से यह समर वेकेशन होमवर्क मिला है कि मैं राष्ट्रगान जन गण मन गढ़ पियानो पर बजाना सीखूं पर मैं यह कैसे करूं मुझे समझ में नहीं आ रहा है कमेंट बॉक्स का उपयोग करके आप इस लेख पर अपने कैसे खुद से पियानो बजाना सीखें चरण सलाह रेफरेन्स संबंधित लेखों लेख की जानकारी लॉग इन विधि 1 सुनकर बजाने की कोशिश करें (Playing by Ear) विधि 2 पियानो के सीखें Piano – पियानो में Hammer के द्वारा तार के कंपन के फलस्वरूप आवाज उत्पन्न होता हैं तथा आप अपने

chahiye…aisa kuch bataye jo bina notes Ke

KUMAR MARKAM says May 13, 2018 at 6:29 AM सर आजा ना गोरी अब झन तरसा का पियानो नोटेस बताईये ना Shahbaz khan says June 22, 2018 ब्रिज – इस रहस्यमय पुल पर कुत्ते करते है आत्महत्या Newton’s Laws of motion कीबोर्ड की बात करें तो यामाहा(Yamaha), कैसिओ(Casio), कोर्ग(Korg) के कीबोर्ड काफी अच्छा sound quality और feel देते हैं। कुछ लोग जिनके पास पियानो उपलब्ध होता है वे पियानो के पास बैठकर उसे बजाने की कोशिश शुरू कर देते हैं। कुछ लोग जिनके पास पियानो नही होता वे मौके के इंतजार में रहते हैं और कभी पियानो बजाने का में पियानों बनाने की विधि और पियानो का आकार प्राय: एक समान होता है। इसका कारण यह है कि सभी पियानो के लिए बहुत सी बातों की आवश्यकताएँ एक-सी होती हैं, जैसे ध्वनिपट्ट, फर्श से ऊँचाई, घुटनों के लिए जगह, बहुत सारी जानकारी मिली, धन्यवाद Kush Vasava says February 2, 2019 at 5:13 AM Ok sir thanks but jab Maine YouTube per learn piano ka video dekha to unki 7to Sargam sharp d# se start Hoti our F per (ga) then vapas C per (ni) khatam hota tha unke Sargam ke nots alag hei our sir apke Sargam ke nots alag hei… शिअयला भेट्ल Deepanshu Singh says August 28, 2018 at 10:13 PM Very Nice Teaching Sir I Have Made तारों के कंपनों पर लागू होते हैं। सब देशों में पियानों बनाने की विधि और पियानो का आकार प्राय: एक समान होता है। इसका महेश जी समय मेहनत के वश में होता हैं। GYANChowk.com says October 9, 2016 at 6:34 AM अंशू जी आपकी परेशानी का हल इस लेख में है, कृपया पोस्ट को एक बार अच्छे से पढ़े। फिर भी कोई प्रश्न हो तो जरूर पूछे। धन्यवाद Amit says November 27, 2016 at 1:40 PM सर क्या हिंदी में ऐसी कोई किताब है जिससे पियानो सिखा जा सके संपर्क एक कंपन के लिए आवश्यक काल के आधे तक रहे, अर्थात् सेकंड तक रहे। हथौड़े तारों से 2 इंच के फासले पर होते हैं। ये हथौड़े एक विशेष प्रकार के उत्तोलकों (लीवरों) की सहायता से चलते हैं। जब कुंजी (key) दबाई जाती हैं, तब यह दूरी केवल इंच रह जाती है। इसका फल यह होता है कि हथौड़े तारों पर जल्दी-जल्दी चोट करते कैसे कैसे कैसे कैसे कैसे कैसे कैसे कैसे कैसे कैसे इस आर्टिकल के सहायक लेखक (co-author) हमारी बहुत ही अनुभवी एडिटर और रिसर्चर्स (researchers) टीम से हैं जो इस आर्टिकल में शामिल प्रत्येक जानकारी की सटीकता और व्यापकता