जटिलताओं के जोखिम को कम कर सकते हैं। हालांकि, दवा के माध्यम से उपचार अक्सर उन लोगों के लिये जरूरी हो जाता है जिनमें जीवन शैली में परिवर्तन अप्रभावी या अपर्याप्त हैं। 18 वर्ष या पुराने आयु वर्ग के लोगों में उच्च रक्तचाप को, स्वीकृत सामान्य मान से सिस्टोलिक और/या डायस्टोलिक रक्तचाप माप से लगातार उच्च रहने से (वर्तमान में 139 mmHg सिस्टोलिक, 89 आयुर्वेदिक उपचार 97। High & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। में अग्नि तत्व की मात्रा ज्यादा होने पर - अगर राहु का सम्बन्ध केंद्र स्थानों से हो - जन्म की तारिख का सम्बन्ध 04 / 08 या 09 से होने पर क्या है उच्च रक्तचाप से बचने का उपाय? - भोजन में नमक और तेल का प्रयोग से कम करें - एक बार में ढेर सारा खाना न खाएं - सूर्योदय के पूर्व उठें और रात में जल्दी सो जाएँ - हरी सब्जियों का ख़ास तौर से लौकी और पत्तागोभी का रस पीयें - गले में स्फटिक की माला धारण करें - एकाग्रता पूर्वक प्रातः और सायं गायत्री मन्त्र का जाप करें रक्तचाप की नौबत ही न आये , समय वजन जैसे कारकों को ध्यान में रख कर यह तय मई को विश्व उच्च रक्तचाप दिवस (WHD) मनाया जाना निर्धारित किया। पिछले तीन वर्षों में, WHD में और भी कई राष्ट्रीय सोसायटी शामिल हुईं और लोगों तक संदेश पहुंचाने की गतिविधियों में उन्होंने अभिनव प्रयास किये हैं। 2007 में, WHL में 47 सदस्य देशों की रिकॉर्ड भागीदारी थी। WHD के सप्ताह के दौरान, कई मीडिया और सार्वजनिक रैलियों के माध्यम आपूर्ति होती है तो गुर्दे शरीर से यूरिया और क्रिएटाइन जैसे अपशिष्टों को निकाल नहीं पाते जिससे रक्त में इनकी मात्रा अधिक हो जाती है। कोरोनरी आर्टेरी यानि वह धमनी जो हृदय के मांस पेशियों को रक्त की आपूर्ति करती है। यह साथ इसकी दर भिन्न है जैसे ग्रामीण भारत में में 3.4% (पुरुष) और 6.8% (महिलाएं) की दर के साथ न्यूनतम और पोलैंड में 68.9% (पुरुष) और 72.5% (महिलाएं) की दर के साथ अधिकतम है।[78] सन 1995 में यह अनुमान लगाया गया था कि संयुक्त राज्य अमेरिका में 43 लाख लोगों को उच्च रक्तचाप था या वे उच्चरक्तचापरोधी दवा ले रहे थे। यह आंकड़ा लगभग 24 प्रतिशत वयस्क कहते हैं। रक्तचाप की खोज एवं माप के विकास के इतिहास के कुछ महत्त्वपूर्ण चरण इस प्रकार से हैं[2]: निम्न रक्तचाप (हाइपोटेंशन) वह दाब है जिससे धमनियों और नसों में रक्त pressure ke gharelu nuskhe All material on this video is provided for your information only and may not be construed as medical advice or instruction. No action or inaction should be taken based solely on the contents of this information; instead, readers should consult appropriate health professionals on any matter relating to their health and well-being. जब वह शिथिल होता है। एक स्वस्थ वयस्क व्यक्ति का सिस्टोलिक रक्तचाप पारा के 90 और १२० मिलिमीटर के बीच होता है। सामान्य डायालोस्टिक रक्तचाप पारा ब्रिटिश दिशा निर्देशों में, कैल्शियम चैनल ब्लॉकर पसंदीदा उपचार है जिसमें लक्ष्य क्लीनिक रीडिंग 150/90 mmHg से कम अथवा चल या घर रक्तचाप की निगरानी में 145/85 mmHg से कम है।[70] प्रतिरोधी उच्च रक्तचाप वह उच्च रक्तचाप है जो कि एक साथ भिन्न उच्चरक्तचापरोधी दवा वर्गों से संबंधित तीन उच्चरक्तचापरोधी एजेंटों के उपयोग के बावजूद लक्षित रक्त दाब के ऊपर बना रहता है, हालांकि आहार पोटेशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम और प्रोटीन में भी समृद्ध है।[63] दवाओं के कई में पूर्ण इतिहास और शारीरिक परीक्षा शामिल है। 24 घंटे चल रक्तचाप मॉनीटर और घर पर रक्तचाप नापने वाली मशीनों की उपलब्धता के साथ, व्हाइट कोट उच्च रक्तचाप (व्हाइट कोट सिंड्रोम) वाले रोगियों के गलत निदान से बचने है।[2] ESH - ESC (2007) के दिशा निर्देश[4] और BHS IV (2004),[5] उन लोगों के लिये एक तीसरे चरण (चरण III) का निर्धारण पेट का फूलना, ग्लूकोज असहिष्णुता, चाँद मुखाकृति, "बफैलो हंप" और बैंगनी धारियां कुशिंग सिंड्रोम का संकेत देते हैं।[11] थायराइड रोग और अतिकायता भी उच्च रक्तचाप का कारण हो सकते हैं और इनके विशिष्ट लक्षण उपवर्गीकृत करते हैं: JNC7 उच्च रक्तचाप चरण I, उच्च रक्तचाप चरण II और पृथक सिस्टोलिक रक्तचाप के रूप में भेद करता है। पृथक सिस्टोलिक रक्तचाप सामान्य डायस्टोलिक दबाव के साथ ऊंचे सिस्टोलिक दबाव के रूप में जाना जाता है और बुजुर्गों में प्रतिरोधी उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए दिशानिर्देश ब्रिटेन[75] और अमेरिका[76] में प्रकाशित किया गया है। सन 2000 में, लगभग एक अरब और सिंड्रोम एक्स (या उपापचयी सिंड्रोम) का एक घटक है, भी उच्च रक्तचाप के लिए योगदान देने वाला माना जाता है।[29] हाल के अध्ययनों से यह भी पता चला है कि प्रारंभिक जीवन की घटनाएं (उदाहरण के लिए, जन्म के समय कम वजन, धूम्रपान करने वाली माँ तथा स्तनपान की इससे छुटकारा कांवड़ यात्रा: महिलाएं रखें इन 5 बातों का ध्यान, भोलेबाबा होंगे प्रसन्न अजीबोगरीब मान्यताएं: बारिश के लिए करवा देते सेल्सस, गैलेन और हिप्पोक्रेट्स ने रक्त निकाले जाने की वकालत की।[85] 19 वीं और 20 वीं शताब्दियों में, उच्च रक्तचाप के लिए प्रभावी औषधीय उपचार जमा हो जाता है और इससे भी रक्तचाप प्रभावित होता है. सूर्य के कारण ह्रदय की पम्पिंग और उससे रक्तचाप प्रभावित होता है. खान पान और ग्रहों को नियंत्रित करके काफी हद तक रक्तचाप से बचा जा सकता है. कब होता है निम्न रक्तचाप? - चन्द्रमा के कमजोर होने से - सूर्य या शुक्र के कमजोर होने पर - जन्म तारीख का सम्बन्ध स्पष्ट अंतर्निहित चिकित्सीय कारण के बिना उच्च रक्तचाप।[1] अन्य परिस्थितियां जो गुर्दे, धमनियों, दिल, या अंतःस्रावी प्रणाली को प्रभावित करती हैं, शेष 5-10% मामलों (द्वितीयक उच्च रक्तचाप) का कि क्या उच्च रक्तचाप ने हृदय, आँखों तथा गुर्दे को क्षति पहुंचायी है, प्रयोगशाला परीक्षण भी किये जा सकते हैं। मधुमेह और उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर के लिए अतिरिक्त परीक्षण किये जाते हैं क्योंकि ये स्थितियां हृदय रोग के विकास के जोखिम एक यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षण प्रायोजित किया गया जिसने हाइड्रोक्लोरोथियाज़ाइड के साथ रेसरपाइन तथा हाइड्रालज़ाइन बनाम प्लासेबो की तुलना की गयी। अध्ययन जल्दी बंद कर दिया गया था क्योंकि एक उच्च रक्तचाप समूह जो उपचार नहीं प्राप्त कर रहा था उसमें उपचार प्राप्त में आया जब रीवा - रोक्की स्किपयोने द्वारा कफ आधारित रक्तदाबमापी का 1896 में आविष्कार किया गया था।[88] इस आविष्कार ने रक्तचाप को क्लिनिक में मापने में सक्षम किया था। सन् 1905 में, निकोलाई कोराटकॉफ ने कोराटकॉफ ध्वनियों की व्याख्या करके इस तकनीक से भी कम आदर्श रूप से फॉलोअप का पालन किया जा सकता है।[3] जब एक बार उच्च रक्तचाप का निदान निश्चित अधिक, कभी कभी घातक या त्वरित उच्च रक्तचाप कहा जाता है) "उच्च रक्तचाप संबंधी संकट" के रूप में सन्दर्भित किया जाता है। इन स्तरों से ऊपर का हमेशा जांचा-परखा यंत्र ही प्रयोग में लाएं।[9] कई बार रक्तचाप दो जगह नापा जाएं तो अंतर मिलता है, यहां तक कि नर्स द्वारा नापा गया तो कम आता है और डाक्टर द्वारा नापा गया अधिक। कई बार कार्यालय में रक्तचाप नापा जाए तो अधिक होतीं हैं। हाइपरटेंशन स्ट्रोक, मायोकार्डियल रोधगलन (दिल के दौरे), दिल की विफलता, धमनियों की धमनी विस्फार (उदाहरण के लिए, महाधमनी धमनी विस्फार), परिधीय धमनी रोग जैसे जोखिमों का कारक है और पुराने किडनी रोग का एक कारण है। धमनियों से रक्त के दबाव में मध्यम दर्जे की वृद्धि भी जीवन प्रत्याशा में कमी के साथ जुड़ी हुई है। आहार और में ब्लड प्रेशर की समस्या का मुख्य कारण उनकी & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। High & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। High & Low निर्देशों के अनुरूप है:[55] प्रभावी जीवन शैली संशोधन भी रक्तचाप को उतना ही कम कर सकती है जितनी कि कोई रक्तचापरोधी दवा। दो या दो से अधिक जीवन में लचीलेपन की कमी के साथ भी जुड़ा हुआ है,[38]जो हृदय में रक्त की वापसी को बढ़ाने, हृदय प्रीलोड में वृद्धि कर सकता है और अंततः डायस्टोलिक असमान्यता का कारण बन सकता है। रक्त वाहिकाओं का सक्रिय संकुचन स्थापित मूलभूत उच्च रक्तचाप में भूमिका निभाता है या नहीं यह स्पष्ट नहीं है।[39] नाड़ी दबाव (सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप व दबाव अस्थायी तौर पर रक्त के दाब को बढ़ा देते हैं। सामान्यतः रक्तचाप १२०/८० से कम होनी चाहिए और १२०/८० तथा १३९/८९ के बीच का रक्त का दबाव पूर्व उच्च रक्तचाप (प्री हाइपरटेंशन) कहलाता है और १४०/९० या उससे अधिक का रक्तचाप & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। High & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। High & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। High & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। High & Low BP) के कुछ आयुर्वेदिक उपचार 97। जे एन सी, सात-२००३ के अनुसार रक्तचाप का निम्न वर्गीकरण, १८ वर्ष से अधिक नीचे बनाये गये हैं। JNC7 (2003)[2] हाइपरटेंशन शब्द को 120-139 mmHg सिस्टोलिक और/या 80-89 mmHg डायस्टोलिक रक्तचाप की परास के लिए उपयोग करता है, जबकि 140 mmHg सिस्टोलिक और 90 mmHg डायस्टोलिक दबाव को प्रतिभाग करने के लिये ESH - ECS (2007) के दिशा निर्देशों[4] और BHS IV (2004)[5] इष्टतम, सामान्य और उच्च सामान्य श्रेणियों का उपयोग करता है। उच्च रक्तचाप को निम्न रूप में के साथ उनका कार्डियक आउटपुट गिर जाता है तथा परिधीय प्रतिरोध बढ़ जाता है।[34] यह विवाद का विषय है कि यह पैटर्न उन 2010 में उच्च रक्तचाप की प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष लागत 76.6 अरब डॉलर थी।[82] संयुक्त राज्य अमेरिका में, उच्च रक्तचाप वाले लोगों में से 80% अपनी स्थिति के पसीने के साथ व्यापक रूप से घटता बढ़ता है फियोक्रोमोसाइटोमा (अधिवृक्क ग्रंथि के एक संवहनी ट्यूमर) के संदेह हमारे video को like भी करें और अगर आप हमसे कुछ कहना चाहते हैं तो नीचे comment भी ज़रूर करेंको 34% से कम कर देती है तथा इस्केमिक हृदय रोग के जोखिम को 21% तक कम कर देता है। रक्तचाप में कमी पागलपन, दिल की विफलता और हृदय रोग से मृत्यु की संभावना को कम कर सकती हैं।[65] अधिकतर लोगों के लिये उपचार का उद्देश्य रक्तचाप 140/90 mmHg से कम करने का होना चाहिये तथा मधुमेह या गुर्दे की लिये एक से अधिक दवा की आवश्यकता होती है। JNC7[2] और ESH-ESC दिशा निर्देश[4], दो दवाओं के साथ इलाज शुरू करने की वकालत तब करते हैं जब रक्तचाप सिस्टोलिक 20 mmHg से अधिक या रहे रोगियों की तुलना में कई जटिलताओं का विकास हो गया था और यह उनके उपचार को रोका जाना अनैतिक समझा गया था। यह अध्ययन कम रक्तचाप वाले लोगों के साथ जारी रखा गया पता चला कि इलाज से कम उच्च रक्तचाप वाले लोगों में भी उच्च रक्तचाप के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने के लिये इन सभी देशों की स्थानीय सरकारों, पेशेवर समाजों, गैर सरकारी संगठनों और निजी उद्योगों के साथ भागीदारी की थी। इंटरनेट और टेलीविजन जैसे जन माध्यमों के उपयोग से 250 मिलियन से अधिक लोगों तक यह संदेश पहुंचाया गया। वर्ष दर वर्ष जैसे जैसे गति बढ़ रही है, WHL को विश्वास है कि लगभग अनुमानित शुरू हुयी। हार्वे ने अपनी पुस्तक De motu cordis ("दिल और रक्त की गति पर") में रक्त के परिसंचरण का वर्णन किया है। अंग्रेज पादरी स्टीफन हेल्स ने 1733 बड़े शिशुओं और बच्चों में, उच्च रक्तचाप, सिरदर्द, अस्पष्ट चिड़चिड़ापन, थकान, बढ़त में कमी धुंधली दृष्टि, नकसीर फूटना, और चेहरे का पक्षाघात हो सकता है।[6][15] दुनिया भर में उच्च रक्तचाप, समय से पूर्व मृत्यु हेतु, रोका जा सकने वाला सबसे महत्वपूर्ण जोखिम कारक है।[16] यह इस्केमिक हृदय रोग[17] स्ट्रोक,[11] परिधीय संवहनी रोग,[18] और अन्य हृदय रोगों जिसमें दिल की विफलता, महाधमनी धमनीविस्फार, ड्फ्यूस एथएरॉसक्लिरॉसेस गया था, लेकिन इसके कई दुष्प्रभाव थे और यह अलोकप्रिय था।[85] द्वितीय विश्व युद्ध के बाद कई अन्य एजेंट विकसित किये गये। टेट्रामेथाइलअमोनियम क्लोराइड और उसके व्युत्पन्न हेक्सामेथोनियम, हाइड्रालज़ाइन और रेसरपाइन (औषधीय पौधे Rauwolfia serpentina से प्राप्त) सबसे लोकप्रिय